Sat. Oct 19th, 2019

पहली तिमाही में चालू खाता घाटा कम हुआ-इकोनॉमी और सरकार के लिए राहत की खबर,

1 min read

इकोनॉमी के मोर्चे पर लगातार आ रही नेगेटिव खबरों के बीच एक अच्छी खबर आई है. कच्चे तेल की कम कीमतों, सेवा जैसे कारोबार से अधिक आय और विदेश में कार्यरत भारतीयों द्वारा ज्यादा धन भेजे जाने के कारण भारत का 2019-20 की पहली तिमाही (अप्रैल से जून) में चालू खाते का घाटा (CAD) घटकर 14.3 अरब डॉलर हो गया है. यह जीडीपी का 2.3 फीसदी है. चालू खाते का घाटा बढ़ने से जीडीपी ग्रोथ पर नेगेटिव असर होता है.

भारत के बकाया भुगतान (बीओपी) पर भारतीय रिजर्व बैंक का आंकड़ा बताता है कि सीएडी पिछले वित्त वर्ष 2018-19 की पहली तिमाही में 15.8 अरब डॉलर (जीडीपी का 2.3 फीसदी) था. हालांकि यह मार्च की तिमाही में भी बेहद कम 4.6 अरब डॉलर (जीडीपी का 0.7 फीसदी) था.
क्या होता है चालू खाते का घाटा?

चालू खाते में मुख्यत: तीन प्रकार के लेन-देन शामिल हैं. पहला, वस्तुओं व सेवाओं का व्यापार, दूसरा- कर्मचारियों और विदेशी निवेश से आमदनी और तीसरा करेंट ट्रांसफर जैसे विदेशों से मिलने वाली अनुदान राशि, उपहार और विदेश में बसे कामगारों द्वारा भेजे जाने वाली रेमिटेंसेज की राशि.

जब इन तीनों प्रकार के लेन-देन को डेबिट (व्यय) और क्रेडिट (आय) के रूप में दो कॉलम बनाकर उनका अंतर निकाला जाता है तो उसे ‘चालू खाते का संतुलन’ कहते हैं. अगर यह अंतर नकारात्मक है तो इसे चालू खाते का घाटा कहते हैं जबकि धनात्मक होने पर इसे चालू खाते का सरप्लस कहा जाता है. चालू खाते के घाटे में उतार-चढ़ाव का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर पर भी असर पड़ता है. यही वजह है कि इसे जीडीपी के प्रतिशत के रूप में व्यक्त किया जाता है
आरबीआई ने एक बयान में कहा है, ‘सीएडी प्राथमिक रूप में 31.9 अरब डॉलर की उच्च अदृश्य आमद के कारण वर्ष दर वर्ष आधार पर घटा है, जबकि एक वर्ष पहले यह आमद 29.9 अरब डॉलर थी.’ सेवाओं के जरिए आई विदेशी मुद्रा, वित्तीय संपत्तियों, श्रम व संपत्ति और करेंट ट्रासफर से आय अदृश्य आमद में गिने जाते हैं. ट्रैवल, वित्तीय सेवाओं, दूरसंचार, कंप्यूटर और सूचना सेवाओं में अच्छी बढ़त की वजह से सेवाओं में कुल प्राप्ति 7.3 फीसदी बढ़ गई

More Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

LATEST VIDEOS

You may have missed